ब्लॉग प्रसारण पर आप सभी का हार्दिक स्वागत है !!!!

वैसे तो इस तरह के तमाम ब्लॉग उपलब्ध हैं जिनमें से कुछ काफी प्रसिद्ध हैं. इस ब्लॉग को शुरू करने का हमारा उद्देश्य कम फोलोवर्स से जूझ रहे ब्लॉग्स का प्रचार करना एवं वे लोग जो ब्लॉग बनाना चाहते हैं परन्तु अज्ञान वश बना नहीं पाते या फिर अपने ब्लॉग का रूप, रंग ढंग नहीं बदल पाते उनकी समस्या का समाधान करना भी है. परन्तु यदि नए ब्लॉग नवीनीकरण (अर्थात update ) नहीं होंगे उनके लिंक नहीं लगाये जायेंगे उनकी जगह अन्य लिनक्स को स्थान दिया जायेगा. साथ ही साथ प्रतिदिन एक या दो विशेष रचना "विशेष रचना कोना' पर प्रस्तुत की जायेंगी और "परिचय कोना" पर परिचय भी दिया जायेगा. ब्लॉग में किसी भी तरह की समस्या को इस पते पर लिख भेजें : blogprasaran@gmail.com समाधान हेतु यथासंभव प्रयास किया जायेगा....

नोट : सभी ब्लॉग प्रसारण कर्ता मित्रों से अनुरोध है कि वे अपने पसंद के सीमित लिंक्स अर्थात अधिकतम (10-15) ही लिंक्स लगायें ताकि सभी लिंक्स पर पहुंचा जा सके.


मित्र - मंडली

पृष्ठ

ब्लॉग प्रसारण परिवार में आप सभी का ह्रदयतल से स्वागत एवं अभिनन्दन


Friday, August 30, 2013

!! कृष्णा !!

सभी मित्रों को नमस्कार!
       आम जनों की पीर हरने वाले योगीराज कृष्ण के जन्म की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ प्रस्तुत हैं आज के कुछ लिंक्स-


वंशीधर का मोहना, राधा-मुद्रा मस्त ।  
नाचे नौ मन तेल बिन, किन्तु नागरिक त्रस्त ।  
किन्तु नागरिक त्रस्त, मगन मन मोहन चुप्पा ।...


मीरा बन बांट निहारूं, ले नयनों में दर्श तृष्णा, 
 तिल-तिल मरती यह प्रेम विरहिणी, 
स्मृति से निकल, हो सदृश्य, दो दर्श कृष्णा।...

आज हमारे देश में बड़ी अजीब स्थति है  एक और हमारी सरकार जहाँ फ़ूड सिक्योरिटी बिल देश में लागू करके अर्थव्यवस्था पर एक और बोझ डाल देना चाह...

चहुँ ओर गहन अँधियारा है, विश्वास सुबह का पर बाकी. 
हो रहा अधर्म है आच्छादित, है स्थापन धर्म वचन बाकी.   
अब नहीं धर्म का राज...

हमारे सभी प्यारे दुलारे कान्हा गोपियों राधे माँ  को प्रभु कृष्ण के  जन्म पर ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं सब मंगल हो आइये एक बार खुले दिल...

जागिये, मनमोहन जी ! भारतीय अर्थव्यवस्था का जहाज डूब रहा है मनमोहन जी ! यह क्या हो रहा है ? आप तो अर्थव्यवस्था के अच्छे नाविक है, फिर भारत...

ठेले बरबस खींचते, मन भर भर के प्याज |  
पिया बसे परदेश में, यहाँ छिछोरे आज | 
यहाँ छिछोरे आज, बड़ा सस्ता दे जाते | 
रविकर नाम उधार, ...

मीता देखो अभी भी वक़्त है फेंसला बदल लो ईद का दिन है कहीं कुछ भी हो सकता है फ्लाईट से चलते हैं, नहीं पहले प्रोग्रा...

जल इस संसार में समस्त जीवों, पशुओं और पौधे सब को पानी की आवश्यकता है | प्राचीन काल में लोगों ने बस्तियाँ कस्बा, नगर, गाँव, नदियों के ...


आज के लिए बस इतना ही!
अब आज्ञा दीजिए!
जय राधे कृष्ण!!

12 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रसारण आभार ,

    कृपया आप सब एक बार यहाँ भी पधारें,

    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः9

    ReplyDelete
  2. सुन्दर और पठनीय सूत्रों का प्रसारण

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रसारण पठनीय सूत्र मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार

    ReplyDelete
  4. जय श्री कृष्ण, आदरणीय बृजेश भाई जी बेहद सुन्दर प्रसारण पठनीय सूत्र हार्दिक आभार आपका.

    ReplyDelete
  5. क्या बात है भाई-
    बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर कृष्णमय प्रसारण...रोचक लिंक्स....आभार

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति आदरणीय बृजेश जी, मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय से आभार

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन प्रसारण।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर सूत्रों से सजा प्रसारण !!
    आभार !!

    ReplyDelete
  10. आदरणीय बृजेश भाई जी इस सुन्दर अप्रितम प्रसारण हेतु हार्दिक आभार आपका.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर प्रसारण बृजेश जी ! मेरी पोस्ट को इन सभी खूबसूरत सूत्रों के साथ स्थान देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद एवँ आभार !

    ReplyDelete